Top display banner ad

कस्मकस जिंदगी









जिंदगी की कस्मकस ने हमे क्या से क्या बना दिया
कभी भीड़ में भी तनहा बना दिया
और कभी तन्हाई में भी हसना सिखा दिया
जिंदगी की कस्मकस भी देखो कैसी है


 कभी सुधरना तो कभी टूट कर भिखरना सिखा दिया
अजीब है जिंदगी भी ,कभी सहमी- सहमी सांसों ने 
खुशियों के पलों को ढूंढ लिया 
तो कभी हसती हुयी आँखों को भी रोना सिखा दिया




सब कुछ बदल सा गया है इस कस्मकस जिंदगी में
यंहा साँसों पर भी हक हवाऔं का हो गया है 
इतने बड़े -बड़े हौसलों में ख्वाइसें सहम सी गयी हैं 
कभी खुशियों का दौर, तो कभी आशुयों की धार है
हर तरफ हर जगह बस तकरार ही तकरार है



इस कस्मकस जिंदगी में मुसाफिरों की कमी नहीं 
निभा रहे सभी रिश्ते ,पर फिर भी रिश्तों में नमी नहीं
ऐसी क्या कमी थी जिंदगी में जो अब भी मुरझाई सी है 
मन की उमंगों में एक धुंधली परछाई सी है 
ऐसा लग रहा मानो अब भी जिंदगी बिखरी सी है



हर किसी की जिंदगी खुदगर्ज़ सी हो गयी है
शायद इसीलिए सबकी खुशियों में कमी सी है
और कुछ ऐसे ही कल आँखों में नमी सी थी  
और आज भी शायद नमी सी है.