Top display banner ad

कुछ अधूरे से लम्हे



कुछ अधूरे से लम्हे 

हर किस्सा अधुरा रह जाता है 
हर बाते अधूरी रह जाती हैं 
मन को छूने वाले हर लम्हे
 दिल में हल -चल कर जाते हैं




कुछ बाते खो जाती हैं
 कुछ रातें खो जाती हैं 
चाँद दिनों में अपने अपनों को भूल जाते हैं 



कभी यादें सताती  हैं हमें 
तो कभी आशु बहते हैं 
फिर कभी- कभी काश लोगों की
 यादें दिल में घर कर जाती हैं



  
और फिर न चाहते हुए भी 
आँखों से बरसातें हो जाती हैं
प्यार में दुनिया रंग जाती है 
प्यार में लोग बदल जाते हैं 




यही बातें दिल को छू जाती हैं 
प्यार अनमोल है ये सबको बतलाती है 
रिश्ते में प्यार न हो तो रिश्ते टूट जाते हैं 
प्यार बिना जिंदगी नहीं चलती है



प्यार बिना इन्सान पूरा नहीं होता है 
क्युकी प्यार का एक अक्षर ही अधुरा होता है 
दुनिया में तरह -तरह के लोग होते हैं 
और सबके अंदाज़ भी अलग -अलग होते हैं 




कुछ लोग आगे बढ़ जाते हैं
 तो कुछ लोग पीछे रह जाते हैं 
लेकिन जो पीछे रह जाते हैं इसका मतलब 
ये नहीं की वो कुछ नहीं कर पाते हैं 



कुछ लोग बदल कर जिंदगी सवार लेते हैं 
तो कुछ लोग रो - रोकर जिंदगी गुज़ार देते हैं 
और जो लोग रखते हैं जिंदगी जीने का हौसला




वही कर पाते है अपनी जिंदगी जीने का संही फैसला 
सभी लोग नहीं रखते ये हौसला 
क्युकी कुछ लोग अपनी जिंदगी को बना ही लेते हैं खोखला .