Top display banner ad

अभी शाम का होना बाकी है





अभी शाम का होना बाकी है 

तेरी याद में  खोना बाकी है 
तेरी नींद  में सोना बाकी है
कुछ पल और ठहर ये इस्क
 अभी टूट कर रोना बाकी है
क्यों लौट चले हम घर को अभी 
अभी शाम का होना बाकी है 


कुछ दर्द वक़्त ने दबा दिए 
कुछ दिल टूटने बाकी हैं 
क्यों लौट चले हम घर को 
अभी शाम का होना बाकी है


पंछी की हर साज पर
 तेरा खिलखिलाना बाकी है 
कुछ कदम प्यार की राह पर 
 तेरा साथ निभाना बाकी है
क्यों लौट चले हम घर को 
अभी शाम का होना बाकी है 


तेरे हर एहसास पर
 ऐतबार जाताना बाकी है 
तेरी हर शरारत पर
 अभी प्यार दिखाना बाकी है 
क्यों लौट चले हम घर को
 अभी शाम का होना बाकी है


 प्यार भरी इन आँखों में 
अभी नींद का जाना बाकी है 
सारे  जग को छोर कर
 तेरा लौट आना बाकी है 
क्यों लौट चले हम घर को
 अभी शाम का होना बाकी है 


उसके हसीं लम्हों का
 कुछ कर्ज चुकाना बाकी है
कुछ साथ में किये वादों का
 अभी फ़र्ज़ निभाना बाकी है
क्यों लौट चले हम घर को 
अभी शाम का होना बाकी है



एक प्यारी सी मुस्कान से
 अभी दिल का चुराना बाकी है
दर्द भरी उन रातों का
 हिसाब पुराना बाकी है  
क्यों लौट चले हम घर को
 अभी शाम का होना बाकी है