Top display banner ad

चाभी ही गुम गयी थी




चाभी ही गुम गयी थी 


कुछ इस तरह वो हम पर सितम कर गये 
हम तो गुम थे ख्वाबों में 
वो किसी और का इंतजार कर रहे थे 
मोहब्बत बहुत थी दिल में उनके
 लेकिन मेरे लिए नहीं किसी और के लिए 


और हम नादान और  उनको ही जिन्दगी बना लिए 
बहुत उदास सी हो गयी थी जिंदगी 
लेकिन क्या करती मेरी तो चाभी ही गुम हो गयी थी 


किसी तिजोरी में बंद थी हमारी यादों की पर्चियां 
और मै बुद्धू तिजोरी को खोलने की कोशिस में लगी थी 
लेकिन कम्बक्कत चाभी तो उनके पास ही रह गयी थी 


जब कोई हमे देखता गुस्सा करता हम पर चिल्लाता 
लेकिन भला  ये किसी दुसरे को समझ कैसे आता 
की मेरी तो दिल की चाभी ही गुम हो गयी है


हर पल रुआशा सा मन भी उदास रहता था 
कोई पडोस की लड़की भी आ जाये तो झट से कमरे में चली जाये 
कुछ भी अच्छा नही लगता था सब कुछ रुखा -रुखा सा लग रहा था 


फिर अचानक एक दिन उनका पैगाम आया 
और उसमे खेद प्रकट करते हुए लिखा था
 की मै भी आपसे मोहब्बत करता हूँ
फिर क्या था उसका तो दिल ही खुश हो गया था 


वो इतनी खुश थी मनो उसको एक नयी जिंदगी मिल गयी हो 
 अब वो इतनी खुश थी की आखिरकार उसकी
 जो सालों पहले चाभी गुम हो गयी थी


मानो आज उसके हमसफ़र ने वही चाभी उसको  लौटा दी हो 
और जो अब तक बंद ताले थे अब सारे  के सारे 
सोर मचा कर मनो खिलखिला उठे थे