Top display banner ad

एक नई शुरुवात करते हैं






एक नई शुरुवात करते हैं (कविता)
चल जिंदगी!
 एक शुरुवात करते हैं 
जो उम्मीद दूसरों से की थी 
उसे आज पूरी खुद से करते हैं 

****
चल जिंदगी एक नई शुरुवात करते हैं 
तो कभी किसी ने बेगाना 
चल आज खुद को अपनाते हैं 

****
चल जिंदगी !
एक नई शुरुवात करते हैं
 कभी किसी ने गिराया 
तो कभी किसी ने उठाया 

****
चल खुद को आज उस काबिल बनाते हैं 
चल आज सबको हँसना सिखाते हैं  
चल ज़िन्दगी एक नई शुरुवात करते हैं 

****
ये लोग तो आने जाने हैं 
दुनिया के खेल निराले हैं 
इन निराले खेलों में
 एक खेल अपना बनाते हैं 

****
जो उम्मीद दूसरों से करते हैं 
आज खुद करके दिखाते हैं 

****

चल जिंदगी!
 एक नई शुरुवात करते हैं 
कुछ रोतों को हसातें हैं 
कुछ गरीबों को अपनाते हैं
कुछ बुजर्गों के साथ समय बितातें हैं 

****

जो उम्मीद हम दूसरों से करते हैं 
चल आज खुद ही पूरी करतें हैं 
चल जिंदगी आज नई शुरुवात करतें हैं 

****

सबको गले लगातें हैं 
चल सबका दिल बहलाते हैं 
दूसरों की अच्छाइयों से सीख -सीख 
खुद को और अच्छा बनाते हैं

****
चल जिंदगी !
एक नई शुरुवात करते हैं  
जो उम्मीद हम दूसरों से करते हैं
 वही उम्मीद खुद से करते हैं 

****
चल जिंदगी!
एक नई शुरुवात करते हैं 
जो गलतियां हमने की
 उसे आज खुद से सुधारतें हैं 

****
जो उम्मीद हम औरों से करतें हैं 
 आज खुद ही उसे पूरी करतें हैं 

****

चल जिंदगी!
 एक शुरुवात करते हैं |